CD क्या है? – CD के प्रकार, उपयोग और विशेषताए | CD in Hindi

4.4/5 - (7 votes)

CD क्या है?, CD के प्रकार , CD के उपयोग , CD की विशेषता और CD के लाभ हल्लो दोस्तों हमने इस आर्टिकल में आपको CD के बारे में बताया है । इसमें CD का मतलब, CD की जानकारी, CD के प्रकार, CD का इस्तेमाल क्यों किया जाता है, CD की विशेषता, फायदे आदि के बारे में बताया गया है । आप इस आर्टिकल को पूरा पढे।

CD क्या है?
CD क्या है?

CD क्या है? (What is CD in Hindi) –

CD की अग्रेजी में फुल फॉर्म Compact Disk होती है । इसे हिंदी में भी कॉम्पैक्ट डिस्क और केसेड के नाम से जाना जाता है । CD Secondary Memory का पार्ट है ।

सीडी या कॉम्पैक्ट डिस्क (Compact Disk) विशेष प्रकार की डिस्क होती है । जिस पर डाटा एक ही बार Write किया जाता है । और फिर उसे कई बार रीड किया जा सकता है । CD का काम पहले Digitel ओडियो Store करना था, लेकिन अब इनका उपयोग सभी प्रकार के डेटा को store करने के लिए किया जाने लगा ।

CD की जानकारी हिंदी में

CD का आविष्कार ‘जेम्स रसैल’ (James Russell) ने किया था। सोनी और फिलिप्स कम्पनी ने 1980 में जेम्स के पेटेंट का लाइसेंस ले लिया था और व्यावसायिक रूप से 1982 में सीडी बनने लगी। सोनी कम्पनी ने 1982 में दुनिया की पहली सीडी ऑडियो प्लेयर (CDP-101) लाँच किया। एक समय ऐसा था जब रील वाले कैसेट का प्रयोग करते थे।

सीडी पर कार्य करने का तरीका हार्ड डिस्क से कुछ अलग होता है। Compact Disk के ट्रैक स्पाइरल (Spiral) और Flat होते हैं l यह एक प्रकार से रीड ओनली मेमोरी ही है। सीडी पर डाटा Encode करने के लिए लेजर तकनीक (Laser Technology) का प्रयोग किया जाता है। लेजर बीम की सहायता से सीडी में मौजूद Data की Encoding होती है।

CD पर डाटा Write करने के लिए एक और विशेष प्रकार के डिवाइस का उपयोग किया जाता है जिसे सीडी राइटर (CD-Writer) कहते हैं। इससे सीडी पर स्टोर किए गए डाटा को रीड भी किया जा सकता।

सीडी के आविष्कार ने कैसेट को पूरी तरह से खत्म कर दिया। एक स्टैंडर्ड सीडी में 700 MB का Data सेव किया जा सकता है। सीडी ड्राइव में लगा हुआ सेंसर सीडी के डॉट से रिफ्लेक्ट लाइट को पढ़ता है और हमारी डिवाइस में इमेज क्रिएट करता है।

 

CD Full Form (सीडी का पूरा नाम क्या है?) –

CD का पूरा नाम Compact Disc होता है।

  • C – Compact
  • D – Disc

 

CD Full Form in Hindi (CD को हिंदी में क्या कहते है?) –

CD का फुल फॉर्म हिंदी में कॉम्पैक्ट डिस्क होता है। CD प्लास्टिक का बना हुआ होता है जिसमे लगभग 700mb तक के data को store किया जा सकता है।

  • C – कॉम्पैक्ट
  • D – डिस्क

 

CD के प्रकार (Type of CD) –

तकनीकी और उपयोग करने के आधार पर CD अनेक प्रकार की होती है । CD के विभिन्न प्रकारों के बारे में नीचे बताया गया है –

1 – CD ROM (CD – Read only Memory)

CD ROM का फुल फॉर्म Compact Disc Read Only Memory होता है. CD ROM में स्टोर डेटा को केवल Read किया जा सकता है । इसमें स्टोर डेटा को Write नहीं किया जा सकता है । CD ROM का इस्तेमाल गेम या सॉफ्टवेर Distribute करने के लिए किया जाता है ।

2 – CD – RW (CD-ReWritable)

CD-ReWritable में डेटा को कई बार Write और Erase किया जा सकता है । लेकिन डेटा को अधिक बार Write करने से CD की Quality कम हो जाती है । इसे CD – RW भी कहा जाता है । CD – RW में एक मिश्र धातु का इस्तेमाल किया जाता है जो कि नियमित CD से अलग Reflect होती है ।

3 – CD – R (CD Write Once Read Many)

CD – R को CD WORM के नाम से भी जाना जाता है, जिसमें WORM का मतलब होता है कि Write Once Read Many. CD – R में डेटा को केवल एक बार Write किया जा सकता है और फिर इसे कई बार Read किया जा सकता है ।

4 – Video CD (विडियो सीडी)

Video CD जिसे कि VCD भी कहते हैं, इसका इस्तेमाल विडियो, इमेज या पिक्चर को स्टोर करने और देखने के लिए किया जाता है । अब इसके स्थान पर DVD का इस्तेमाल होता है । VCD की रिज़ॉल्यूशन DVD की तुलना में बहुत कम थी ।

5 – Photo CD (फोटो सीडी)

Photo CD को Kodak के द्वारा डिजाईन किया गया । फोटो CD को डिजिटल रूप में इमेज को स्टोर करने के लिए बनाया गया था । इसमें स्टोर इमेज को कंप्यूटर में एक्सेस और Edit किया जा सकता था । फोटो CD को 1992 में लांच किया गया, जिसे कि 100 High Quality Image को स्टोर करने के लिए बनाया गया था।

Computer में CD का इस्तेमाल क्यों किया जाता है? –

जैसे की हमने पहले जाना है की compact disks का इस्तेमाल data को store करने के लिए किया जाता है जिसे की बाद में retrieve या execute किया जा सके. CDs में software programs भी store किया जाता है जिन्हें ही बाद में computer में load किया जाता है।

इनका इस्तेमाल files को save करने के लिए किया जाता है एक backup के तौर पर या फिर उन्हें किसी दुसरे system में transfer करने के लिए. साथ में उन्हें music को hold करने के लिए भी इस्तेमाल किया जाता है ।

CD की विशेषताएं (Feature of CD) –

Compact Disk  की प्रमुख विशेषताएं निम्नलिखित हैं –

  • CD को CD – ROM भी कहा जाता है क्योंकि इसमें डेटा को केवल एक बार Write किया जा सकता है ।
  • CD में ऑडियो, विडियो या टेक्स्ट डेटा को भी स्टोर किया जा सकता है ।
  • CD की स्टोरेज क्षमता 700 MB तक होती है ।
  • CD एक पोर्टेबल स्टोरेज डिवाइस है. आप इसे कहीं भी ले जा सकते हैं ।
  • CD में स्टोर डेटा को Read करने के लिए लेजर तकनीकी का इस्तेमाल किया जाता है ।
  • DVD, Blue Ray डिवाइस के आ जाने के बाद CD का उपयोग अब बहुत कम किया जाता है ।

CD के फायदे (Advantage of CD) –

CD के प्रमुख फायदे निम्नलिखित हैं –

  • CD एक पोर्टेबल स्टोरेज डिवाइस है.
  • CD में डेटा को लंबे समय तक के लिए स्टोर किया जा सकता है ।
  • अन्य डिवाइस की तुलना में CD की कीमत कम होती है ।
  • CD में स्टोर डेटा को Randomly Access किया जा सकता है ।
 

निष्कर्ष (Conclusion) –

इस लेख में हमने CD क्या है की पूरी जानकारी हिंदी में (CD Information in Hindi) प्रदान कि है। आशा है अब आप जान गए होंगे सीडी का मतलब क्या होता है (CD Meaning in Hindi) और यह कैसे काम करता है। यहाँ हमारा उद्देश्य आपको सीडी के बारे में जानकारी (CD in Hindi) सरल शब्दों में प्रदान करना था। यदि यह लेख आपको पसंद आया हो, तो इसे अपने दोस्तों से जरूर शेयर करें ताकि वह भी इन जानकारियों से परिचित हो सकें।

 

 

About Team Rivn Tech

दोस्तों हम Rivn Tech Editor Team है , हमारा हर प्रयास यही रहेगा कि आपको Computer, Mobile, Latest Technology and Tips & Tricks के बारे में नवीनतम जानकारी प्रदान की जाए और नए-नए तरीकों के बारे में आपको बताया जाएगा, आपकी समस्याओं का समाधान किया जाएगा

3 thoughts on “CD क्या है? – CD के प्रकार, उपयोग और विशेषताए | CD in Hindi”

Leave a Comment