Intranet क्या है? – Intranet कैसे काम करता है, परिभाषा, उपयोग | What is Intranet in Hindi

5/5 - (1 vote)

हेल्लो दोस्तों आज हम Intranet के बारे में जानेगे। Intranet क्या है?, Intranet कैसे काम करता है, Intranet का उपयोग और साथ ही हम इसके फायदे और नुकसान के बारे में जानेगे। Intranet एक प्रकार का सॉफ्टवेयर है जिसका उपयोग है बड़े-बड़े ऑर्गनाइजेशन द्वारा अपने कर्मचारियों के मध्य प्राइवेट डाटा को शेयर करने के लिए किया जाता है। इंट्रानेट internet protocol का उपयोग करके किसी ऑर्गनाइजेशन के बीच डाटा शेयर करने का काम करता है। 

Intranet क्या है?
Intranet क्या है?

इंटरनेट के अधिक इस्तेमाल होने से साइबर क्राइम का खतरा भी ज्यादा बढ़ रहा है। इन पर रोक लगाने के लिए इंट्रानेट और एक्स्ट्रानेट को उपयोग में लाया गया है। इंटरनेट की अपेक्षा इंट्रानेट को एक्सेस करना अधिक सुरक्षित है क्योंकि यह एक प्राइवेट नेटवर्क होता है।

इंटरनेट और इंट्रानेट एक समान नहीं है बल्कि इन दोनों का अर्थ अलग-अलग है क्योकि इंट्रानेट, इंटरनेट का एक हिस्सा है। इंट्रानेट एक प्राइवेट नेटवर्क है तथा यह केवल कंपनी अथवा संगठन के अंदर Authorized लोगो द्वारा ही accessible होता है। इंटरनेट एक पब्लिक नेटवर्क है जो वर्ल्ड वाइड वेब पर कोई भी एक्सेस कर सकता है। अगर आप Intranet क्या है? के बारे और अधिक जानना चाहते है तो इस आर्टिकल अंत तक जरुर पढ़े ..

 

Intranet क्या है? (What is Intranet in Hindi) –

इंट्रानेट एक तरह का प्राइवेट नेटवर्क है जो कि स्टैंडर्ड इंटरनेट प्रोटोकोल के तहत कार्य करता है। इसका उपयोग कोई भी कंपनी अपने कर्मचारियों के मध्य सुरक्षित रूप से जानकारी का आदान प्रदान करने के लिए करता है। इंट्रानेट बड़ी कंपनी या फिर सरकार द्वारा उपयोग की जाती है ताकि आंतरिक संचार हो एवं कुछ भी डाटा लिक होकर बाहर न जाए एवं इसमें सिक्योरिटी का पूरा ध्यान रखा जाता है। 

आज हर जगह इंटरनेट का प्रयोग किया जा रहा है। यह हमारे जीवन का एक मुख्य हिस्सा बन गया है। इंट्रानेट भी इंटरनेट की तरह प्रयोग किया जाने वाला एक नेटवर्क होता है। यह पूरी तरह से सुरक्षित नेटवर्क होता है। इंट्रानेट को एक्सेस करने के लिए वैध यूजर नेम और पासवर्ड की जरूरत होती है, इसलिए इसके हैक होने का खतरा नहीं रहता है।

इंट्रानेट को एक्सेस करने के लिए authenticated login की आवश्यकता होती है क्योंकि इंट्रानेट ऑर्गेनाइजेशन का कोई एक निजी तौर पर मालिक होता है। इंट्रानेट को unauthorized access से सुरक्षित रखने के लिए firewall की आवश्यकता पड़ती है। firewall unwanted एक्सेस या ट्रैफिक को इंट्रानेट नेटवर्क में प्रवेश करने से रोकता है।

 

Intranet Portal (इंट्रानेट पोर्टल) –

इंट्रानेट सॉफ्टवेयर के दो मुख्य पोर्टल होते हैं –

Intranet Portal –

इंट्रानेट पोर्टल का इस्तेमाल आंतरिक सूचना को संयोजित करने के लिए होता है। इसके अलावा ऑर्गनाइजेशन एंटरप्राइज इंफॉर्मेशन को प्रत्येक कंप्यूटर तक पहुंचाने के लिए भी इसी पोर्टल का उपयोग किया जाता है।

Enterprise Portal –

एंटरप्राइज पोर्टल को Enterprise Information Portal (EIP) नाम से भी जाना जाता है। EIP का प्रयोग मुख्यतः संस्थान से सूचना बाहर भेजने के लिए होता है। इसमें एक सिक्योर यूनिसेफ एक्सेस प्वाइंट काम होता है जिसे वेब आधारित यूजर  इंट्राफेस भी कहते हैं। सामान्यतः एंटरप्राइज पोर्टल संस्थान के डाटा कॉपीराइट से भी जुड़ा होता है, जिससे संस्थान की हर सूचना को कॉपी पेस्ट ने किया जा सके। 

 

इंट्रानेट की परिभाषा (Intranet Definition) :-

एक इंट्रानेट को एक संगठन द्वारा उपयोग किए जाने वाले निजी नेटवर्क के रूप में परिभाषित किया जा सकता है। इसका प्राथमिक उद्देश्य कर्मचारियों को एक दूसरे के साथ सुरक्षित रूप से कम्युनिकेशन करने, इंफॉर्मेशन को स्टोर करने और सहयोग करने में मदद करना है। अर्थात् 

“A restricted computer network, a private network created using  World Wide Web software.” 

” एक प्रतिबंधित कंप्यूटर नेटवर्क, एक निजी नेटवर्क जो विश्वव्यापी वेब सॉफ्टवेयर का प्रयोग कर बनाया गया है। “

 

Intranet Meaning in hindi –

इंट्रानेट का हिंदी अर्थ – अंतः जाल या इंट्रानेट होता है। 

 

Intranet का उपयोग (Usese of Intranet in Hindi) –

  • कर्मचारियों से जुड़े रहने।
  • हेल्थ सेक्टर में।
  • सीमाओं के पार टीमों के साथ सहयोग करना।
  • आईटी सेक्टर में। 
  • फाइनेंस टेक्नोलॉजी के लिए।
  • उत्पादकता में वृद्धि के लिए।
  • कॉरपोरेट सेक्टर में प्रयोग।
  • कर्मचारियों को संगठन में आवाज देना।
  • रियल एस्टेट सेक्टर में उपयोग। 

 

Intranet कैसे काम करता है? – 

इंट्रानेट स्थापित करने के लिए सबसे पहले एक  सुरक्षित वेब सर्वर की आवश्यकता होती है, जो सर्वर में सभी डाटा और सूचनाओं को स्टोर करने का कार्य करता है। यह सर्वर पर host की गई फाइल्स की request को मैनेज करता है, फिर यूजर द्वारा request की गई फाइल को सर्च करता है और उसे यूजर को प्रदान करता है।

यह TCP/IP, HTTP और दूसरे इंटरनेट प्रोटोकोल (IP) का प्रयोग करता है। जब कोई कर्मचारी इंट्रानेट इस्तेमाल करना चाहता है तो उसके पास एक विशेष नेटवर्क पासवर्ड होना चाहिए और LAN से जुड़ा रहना चाहिए। कंपनी से दूर काम करने वाला कर्मचारी भी वर्चुअल प्राइवेट नेटवर्क (VPN) के जरिए इंट्रानेट को एक्सेस कर सकता है।

Intranet कैसे काम करता है?
Intranet कैसे काम करता है?

इंट्रानेट एक तरह का इंटरनेट ही होता है, परंतु नेटवर्क स्पीड व सुरक्षा के हिसाब से इंट्रानेट काफी फास्ट व सुरक्षित और प्राइवेट होता है। इंट्रानेट में डाटा ट्रांसमिशन VPN के माध्यम से होता है। जैसे ही हम वेब ब्राउज़र या गूगल में कुछ भी सर्च करते हैं तो वेब होस्टिंग के माध्यम से VPN हमेशा 24×7 उच्च बैंडविथ व  फ्रीक्वेंसी नेटवर्क प्रदान करता है।

हमें जो भी सर्च करते हैं वह स्क्रीन में ओपन हो जाता है एवं पूर्ण रूप से सुरक्षित होता है। सर्च करने वाला क्लाइंट जो सर्वर से डाटा प्राप्त करता है जैसे ही क्लाइंट कुछ भी सर्च करता है तो सर्वर को सूचना भेजी जाती है वहां से सेकंड भर में अप्रूवल आ जाता है एवं जिस भी कंप्यूटर में सर्च किया जाता है उसका IP ऐड्रेस में ट्रांसमिशन होता है तथा इंफॉर्मेशन तुरंत मिल जाता है। इंट्रानेट LAN, MAN, WAN होता है जो सभी कंप्यूटर को आपस में जोड़ता अथवा कनेक्ट करता है। 

 

Intranet के फायदे –

  • बहुत सी कंपनियां अपने वर्क प्रोसेस को व्यवस्थित और ऑटोमेट बनाने के लिए इसका इस्तेमाल करती है। वर्तमान समय में सभी प्राइवेट कंपनियां intranet की ओर बढ़ रही है क्योंकि यह काफी फास्ट एवं सिक्योर होता है। इस नेटवर्क में किसी तरह साइबर क्राइम का खतरा नहीं होता है।
  • कंपनी के इंट्रानेट पर डाटा किसी भी समय उपलब्ध होता है तथा इसे कंपनी workstation का इस्तेमाल करके कभी भी एक्सेस कर सकते हैं। इससे कर्मचारियों को काम करने में तेजी और उत्पादकता बढ़ाने में मदद मिलती है।
  • इंट्रानेट बड़े कंपनी या ऑर्गेनाइजेशन के अंदर सस्ता और सुविधाजनक सुरक्षित कम्युनिकेशन प्रोवाइड करता है। कंपनी के अंदर कर्मचारी चैट, ब्लॉग या ईमेल का इस्तेमाल करके कम्युनिकेशन कर सकते हैं।
  • कम्युनिकेशन डेवेलप होने में सहायक है, इंट्रानेट के माध्यम से कर्मचारी आसानी से एक दूसरे के साथ डॉक्यूमेंट एवं फाइल का आदान प्रदान कर सकते हैं इससे पारदर्शिता बनी रहेगी व अपने किसी भी कर्मचारी को कुछ भी भेजने में खतरा नहीं होगा। अपनी टीम के विचारों और रचनात्मक प्रतिक्रिया शेयर कर सकते हैं। मैनेजर अपने एम्प्लोइज के साथ पारदर्शी रूप से बातचीत कर सकते हैं।
  • इंट्रानेट इंफॉर्मेशन हब के रूप में आगे बढ़ रहा है क्योंकि आज के समय में सभी को अपना डाटा सुरक्षित रखना है। बहुत सी बड़ी बड़ी कंपनी निजी डेटा को सुरक्षित रखने के लिए इंट्रानेट का उपयोग करते हैं इसलिए इंट्रानेट इंफॉर्मेशन हब बनने की ओर अग्रसर है।
  • इंट्रानेट पर शेयर की गई जानकारी केवल एक ऑर्गेनाइजेशन के अंदर ही एक्सेस किया जा सकता है इसलिए डाटा चोरी होने की संभावना लगभग ना के बराबर होती है। इंट्रानेट वर्तमान समय में काफी लाभदायक है। अब कोई भी कंपनी अपना बिजनेस स्टार्ट कर रहा है तो वह खुद का इंटरनेट एक्सेस लेकर आ रहा है, ऐसे में इंट्रानेट की मदद से सरलता लाने में उपयोग कर रहे हैं।
  • कई कंपनियां वर्क प्रोसेस को ऑटोमेट और सुव्यवस्थित है बनाने के लिए इंटरनेट का उपयोग कर रही है। यह साधारण प्रोसेस जैसे वार्षिक छुट्टी की लिस्ट या सप्लाई सप्लाइर सिस्टम की सेटिंग। इसके साथ ही इसमें कुछ कांपलेक्स टास्क जैसे कि प्रोडक्ट मैनेजमेंट और कस्टमर रिलेशनशिप भी हो सकता है।

 

Intranet के नुकसान –

  • इंट्रानेट, इंटरनेट की तुलना में महंगा होता है।
  • इंट्रानेट पर कंट्रोल खोने का डर बना रहता है।
  • अगर इंट्रानेट में फायरवॉल सही से इस्तेमाल ना किया जाए या फिर फायरवॉल इंस्टॉल में ने किया जाए तो इससे
  • इंट्रानेट हैक होने का खतरा बना रहता है।
  • इंट्रानेट में कभी-कभी डाटा डुप्लीकेशन भी हो सकता है, जो कर्मचारियों के बीच कन्फ्यूजन पैदा कर सकता है। 

 

Intranet के उदाहरण (Example of Intranet in Hindi) –

यह इंटरनेट का एक हिस्सा है जो की किसी भी कंपनी को स्वामित्व प्रदान करता है। इसका उपयोग केवल संगठन के निश्चित सदस्य ही कर सकते हैं क्योंकि अलग-अलग कंपनी का अलग-अलग भाषा व प्रोग्रामिंग होता है, ऐसे में इंट्रानेट काफी मददगार है।

  • हेल्थ सेक्टर।
  • फाइनेंस टेक्नोलॉजी।
  • कॉरपोरेट में।
  • आईटी सेक्टर।
  • रियल एस्टेट सेक्टर ।

 

निष्कर्ष (Conclusion) –

यह आर्टिकल  Intranet क्या है? आपके लिए ज्ञानवर्धक व उपयोगी साबित होगा। इंटरनेट और इंट्रानेट एक समान नहीं है बल्कि इन दोनों का अर्थ अलग-अलग है। इंट्रानेट, इंटरनेट का एक हिस्सा है।  इंटरनेट की अपेक्षा इंट्रानेट को एक्सेस करना अधिक सुरक्षित है क्योंकि यह एक प्राइवेट नेटवर्क होता है। आशा करते हैं कि हमारे द्वारा दी गई जानकारी आपके लिए उपयोगी होगी। 

About Team Rivn Tech

दोस्तों हम Rivn Tech Editor Team है , हमारा हर प्रयास यही रहेगा कि आपको Computer, Mobile, Latest Technology and Tips & Tricks के बारे में नवीनतम जानकारी प्रदान की जाए और नए-नए तरीकों के बारे में आपको बताया जाएगा, आपकी समस्याओं का समाधान किया जाएगा

2 thoughts on “Intranet क्या है? – Intranet कैसे काम करता है, परिभाषा, उपयोग | What is Intranet in Hindi”

Leave a Comment