HTML क्या है? HTML Tag के प्रकार और HTML के Versions – (हिंदी में )

5/5 - (1 vote)

हेल्लो दोस्तों इस आर्टिकल में आप HTML के बारे में जानेगे। HTML क्या है?, HTML का अविष्कार किसने किया था?, HTML Tag के प्रकार , कुछ महत्वपूर्ण HTML Tags, HTML की विशेषताएं, HTML के Versions आदि के बारे में जानेगे । HTML kya hota hai की पूरी जानकारी विस्तार से और आसान भाषा में जानने के लिये इस आर्टिकल को पूरा पढ़े… 

HTML क्या है?
HTML क्या है?

 

HTML क्या है? (What is HTML in Hindi) –

HTML (HTML – Hypertext  Markup Language) एक Computer की Language होती है, जिसे Website बनाने में इस्तेमाल किया जाता है। यह कई तरह के Tags से मिलकर बना है। HTML प्रोग्रामिंग लैंग्वेज नहीं है बल्कि यह यह मार्कअप लैंग्वेज है जो वेब ब्राउजर को बताता है कि वेबपेज पर टेक्स्ट, इमेज और मल्टीमीडिया के अन्य रूपों को कैसे प्रदर्शित किया जाए।

जब इंटरनेट की शुरुआत हुई थी तब एक पूरी Website HTML से ही बनाई जाती थी, लेकिन अब टेक्नोलॉजी का जमाना है और आज के समय में बहुत सारी Computer Language है जिन्हें Use करके आप आसानी से Website, Blog बना सकते हो। HTML से Website बन जाने के बाद कोई भी व्यक्ति इंटरनेट के जरिये उस Website को देख सकता है।

यदि आप भी अपनी कोई वेबसाइट या ब्लॉग बनाना चाहते है, तो इसके लिए आपको पहले एचटीएमएल भाषा सीखना होगी, इसके लिए आप HTML Tutorial की Help भी ले सकते है।

 

HTML Tag के प्रकार (Types of HTML Tag in Hindi) –

Html एक टैग आधारित भाषा है और Html के टैग का काम Html को Control करना होता है। ये स्वरूपण आदेश है। ये Web Pages के Storage की प्रस्तुति के तरीके को परिभाषित करते है। वास्तव में , जो टैग (Tags) होते है ये Web Browser को बताते है की क्या दिखाना है और कैसे दिखना है ?

HTML Tag दो प्रकार के होते है :-

  • Parede Tags and Container Tags
  • Singular Tags and Empty Tags

 

1. Parade Tags and Container Tags –

यदि कोई टैग शुरू में और अंत होने वाले टैग की जोड़ी में लिखा जाता है। उस टैग को Parade Tag या Container Tag कहा जाता है। ये ऐसे Tag होते है जो अपने साथ-साथ और अपने अंदर और भी Tags को रखते है।

इन Tags को एक जोड़ी में लिखा जाता है क्योकि शरू का टैग शुरूआती चिन्ह को दर्शाता है और अंत का टैग अंतिम चिन्ह को दर्शाता है और ये टैग ,Tag के नाम से शुरू और ख़तम होते है और अंत के टैग को स्लैश लगा लगाया जाता है। इसके कुछ उदहारण से में आपको समझना चाहता हु :-<HTML>…………………</HTML><HEAD>…………………</HEAD><TITLE>…………………</TITLE><B>…………………</B>

2. Singular Tags and Empty Tags –

जब किसी टैग को अकेले या फिर बिना अंतिम टैग के लिखा जाता है। उस Tag को Singular Tag या Empty Tag कहा जाता है। दूसरे शब्दों में, सिंगुलर टैग का कोई अंतिम टैग नहीं होता इनका उपयोग स्टैंडअलोन किया जाता है। उदहारण सहित :- <HR> , इस का कार्य एक Horizontal Line को खींचना होता है। और भी अन्य उदहारण है जैसे :- <BR>,<IMG> इत्यादि।

 

HTML –  Hyper Text  Markup Language

Hyper –

HYPER का मतलब होता है की HTML Sequence में नहीं काम करती है। जैसा की किसी Programming Language में होता है, एक Statement के बाद अगला Statment Execute होता है। यदि किसी HTML File में Link है और user उस पर Click करता है तो वो Execute हो जाती है।

इससे कोई फर्क नहीं पड़ता है की उससे पहले कितने Elements हैं और वो भी सभी Load हुए हैं या नहीं। ये भी जरुरी नहीं की किसी एक HTML File से पहले कोई दूसरी HTML File Execute नहीं हो सकती है। HTML Elements की ही तरह सभी HTML Files भी एक दूसरे से Independent होती है।

TEXT

किसी webpage में Text सबसे महत्वपूर्ण होता है। Text ही वह Information होती है, जिसे present करने के लिए Web Page Design किया जाता है। HTML Text को Format करके Web Pages में Present करने के लिए use की जाती है।

MARKUP

Markup  का मतलब Text के Layout और Style को Format करना होता है। आप Text को Tags के द्वारा Mark करते हैं, जिस प्रकार के Tags द्वारा Text को Mark किया जाता है वैसे ही Text Web Page में Show होता है। उदाहरण के लिए यदि आप किसी Text को <H1> Tag के द्वारा Mark करते हैं तो Web Page में वह Text बड़ी और Bold Heading के रूप में दिखाई देगा।

HTML, Web Document बनाने के लिए “HTML Tags” का उपयोग करती है। प्रत्येक HTML Tag अपने बीच आने वाले Text को किसी प्रकार में परिभाषित करता है। इसे ही Markup कहते हैं। “<i>” एक HTML Tag है, जो अपने बीच आने वाले text को तिरछा (Italic) करता है। इस पूरी प्रक्रिया को ही Markup करना कहते हैं और वेब पर मौजूद सभी Web Document इसी तरह Format किये जाते हैं।

LANGUAGE

HTML एक Language है, जो Web Developemt के लिए use की जाती है। यह Web Document बनाने के लिए code-words का इस्तेमाल करती है, जिन्हें tags कहते हैं और इन Tags को लिखने के लिए HTML का Syntax भी है। इसके तीन मुख्य भाग होते हैं। जो क्रमशः Element, Tags और Text है।

 

HTML के Versions (HTML Versions in Hindi) –

HTML के बहुत से Version Industry मे आ चुके है. HTML के हर Version मे कुछ नए Elements Add किये जाते है. HTML के सभी Versions के बारे मे नीचे विस्तार से बताया जा रहा है. ये सभी Versions HTML के इतिहास और समय के साथ किये गए सुधार को दर्शाते है

 HTML 1.0यह HTML का Barebones Version था और यह Language मे सबसे पहले Release हुआ था

 HTML 2.0यह Version 1995 मे पेश किया गया था और इसे धीरे-धीरे अतिरिक्त क्षमताओं को शामिल करने के लिए विकसित किया गया है form-based File Upload, Tables, Client-side Image Maps और Internationalization मे उपयोग किया जाता है

 HTML 3.2यह World Wide Web के मानकों के विकास को सुनिश्चित करने के प्रयास मे World Wide Web Consortium (W3C) 1994 मे Tim Berners-Lee द्वारा स्थापित किया गया था. 1997 तक उन्होंने HTML 3.2 को Published किया था

 HTML 4.0यह बाद मे 1997 मे W3C ने HTML 4.0 Released किया यह एक ऐसा Edition है जो कई Browser-specific Elements प्रकारो और Attributes को अपनाया गया है

 HTML 4.01यह दिसंबर 1999 मे HTML 4.01 मे Released किया गया था

 

कुछ महत्वपूर्ण HTML Tags 

TagDescription
<!–…–>Defines a comment
<!DOCTYPE> Defines the document type
<a>Defines a hyperlink
<abbr>Defines an abbreviation or an acronym
<address>Defines contact information for the author/owner of a document
<area>Defines an area inside an image map
<article>Defines an article
<audio>Defines embedded sound content
<b>Defines bold text
<base>Specifies the base URL/target for all relative URLs in a document
<blockquote>Defines a section that is quoted from another source
<body>Defines the document’s body
<br>Defines a single line break
<button>Defines a clickable button
<canvas>Used to draw graphics, on the fly, via scripting (usually JavaScript)
<caption>Defines a table caption
<center>Defines centered text
<code>Defines a piece of computer code
<dialog>Defines a dialog box or window
<div>Defines a section in a document
<dt>Defines a term/name in a description list
<em>Defines emphasized text 
<font>Defines font, color, and size for text
<form>Defines an HTML form for user input
<h1> to <h6>Defines HTML headings
<head>Contains metadata/information for the document
<header>Defines a header for a document or section
<html>Defines the root of an HTML document
<i>Defines a part of text in an alternate voice or mood
<img>Defines an image
<li>Defines a list item
<link>Defines the relationship between a document and an external resource (most used to link to style sheets)
<map>Defines an image map
<mark>Defines marked/highlighted text
<nav>Defines navigation links
<p>Defines a paragraph
<picture>Defines a container for multiple image resources
<progress>Represents the progress of a task
<q>Defines a short quotation
<select>Defines a drop-down list
<small>Defines smaller text
<source>Defines multiple media resources for media elements (<video> and <audio>)
<span>Defines a section in a document
<strike>Use <del> or <s> instead.

Defines strikethrough text

<strong>Defines important text
<style>Defines style information for a document
<sub>Defines subscripted text
<summary>Defines a visible heading for a <details> element
<sup>Defines superscripted text
<table>Defines a table
<tbody>Groups the body content in a table
<td>Defines a cell in a table
<tfoot>Groups the footer content in a table
<th>Defines a header cell in a table
<thead>Groups the header content in a table
<time>Defines a specific time (or datetime)
<title>Defines a title for the document
<tr>Defines a row in a table
<track>Defines text tracks for media elements (<video> and <audio>)
<var>Defines a variable
<video>Defines embedded video content

 

HTML का अविष्कार किसने किया था –

Tim Berners Lee ने सन 1980 में जेनेवा में HTML की खोज की थी। बर्नर्स ली ने 1989 में www (World Wide web) का आविष्कार किया था। उनकी इस उपलब्धि के लिए उन्हें टाइम मैगज़ीन के 20th Century के 100 सबसे Most Important लोगों में से एक नामित किया गया था।अभी के समय में HTML के विकास की रिस्पांसिबिलिटी “World Wide Web Consortium” के पास है। बर्नर्स ली के Browser Editor को 1991-92 में डेवलप किया गया था।

एचटीएमएल का पहला संस्करण True Browser Editor था जो कि एक नेक्स्ट वर्कस्टेशन पर रन करता था। HTML का First Version जून 1993 में Formally Published हुआ था। वर्ष 1991 में इंटरनेट पर पहली बार एचटीएमएल के बारे में HTML Tags नाम का एक डॉक्यूमेंट जारी किया जिसमे लगभग 18 HTML Elements के बारे में बताया गया था।

HTML के अब तक 5 वर्जन रिलीज़ किये जा चुके है। वर्ष 2014 में रिलीज़ किया गया 5वां वर्जन वर्तमान में चल रहा है जिसके कई सारे HTML Tags को शामिल किया गया है।

इसी के साथ अब आप जान गए होंगे कि HTML Kya Hai in Hindi एवं इसका अविष्कार किसने किया था, चलिए अब आगे बढ़ते है और जानते है कि HTML कोडिंग कैसे करते है।

 

HTML के पुराने version कौन-कौन से है –

  • 1989 Tim Berners-Lee invented :-www
  • 1991 Tim Berners-Lee invented :-HTML
  • 1993 Dave Raggett drafted :-HTML+
  • 1995 HTML Working Group defined :-HTML 2.0
  • 1997 W3C Recommendation:- HTML 3.2
  • 1999 W3C Recommendation:- HTML 4.01
  • 2000 W3C Recommendation:- XHTML 1.0
  • 2005 WHATWG HTML5:- First Public Draft
  • 2012 WHATWG HTML5:- Living Standard
  • 2014 W3C Recommendation:- HTML5
  • 2016 W3C Candidate Recommendation:- HTML 5.1
  • 2017 W3C Recommendation:-HTML5.2

 

HTML की विशेषताएं  (Features Of HTML in Hindi) –

Clear Syntax:- HTML के Syntax बिलकुल Clear होते है, और इसे आसानी के साथ Modify भी किया जा सकता है

Graphics:- HTML5 में Graphics का बहुत इस्तेमाल होता है, जहाँ SVG या Canvas का उपयोग कर Vector Graphics बना सकते हैं

New Format:- अगर बात की जाए HTML5 की तो इसमें कुछ बहुत usefull new format को add किया गया है, जैसे Date, Time, Calender, Etc.

Link Adding:- यह प्रोग्रामर या web developer को web pages पर Link Add करने की सुविधा प्रदान करता है, आप HTML में Anchor Tag का इस्तेमाल करके web pages पर Link Add कर सकते है, इससे Browsing में Users का Interest बढ़ा जाता है

Geo Location:- साइट को HTML4 में बनाया गया है, उस Website पर Visit करने वाले Visitors की Geo Location को पता करना बहुत ही कठिन होता है, आपकी जानकारी के लिए बता दे जब HTML5 को Launch किया गया तो इसमें Geo Location को Add किया गया है

Effective Presentation:- HTML में बहुत सारे Formating Tag होते है, इसलिए यह Effective Presentation बना सकते है

 

 

निष्कर्ष (Conclusion) – 

इस आर्टिकल में आपने HTML क्या है? के बारे में जाना। HTML नेटवर्क की दुनिया का महत्वपूर्ण हिस्सा है। इस आर्टिकल में हमने HTML क्या है? के बारे में बताया है।  हम उम्मीद करते हैं कि HTML की यह जानकारी आपको पसंद आई होगी और कुछ नया जानने और सीखने को मिला होगा। 

 

About Team Rivn Tech

दोस्तों हम Rivn Tech Editor Team है , हमारा हर प्रयास यही रहेगा कि आपको Computer, Mobile, Latest Technology and Tips & Tricks के बारे में नवीनतम जानकारी प्रदान की जाए और नए-नए तरीकों के बारे में आपको बताया जाएगा, आपकी समस्याओं का समाधान किया जाएगा

2 thoughts on “HTML क्या है? HTML Tag के प्रकार और HTML के Versions – (हिंदी में )”

Leave a Comment