Graphic Tablet क्या है – Graphic Tablet के प्रकार, उपयोग | Graphic Tablet in Hindi

Rate this post

हेल्लो दोस्तों इस आर्टिकल में आप Graphic Tablet के बारे में जानेंगे। Graphic Tablet क्या है?, Graphic Tablet के प्रकार, Graphic Tablet कैसे काम करता है और Graphic Tablet के उपयोग आदि के बारे में जानेंगे। इसके साथ ही हम Graphic Tablet के फायदे और नुकसान के बारे में भी जानेंगे। कंप्यूटर की अनेक प्रकार की इनपुट डिवाइस होती है जिसकी सहायता से हम कंप्यूटर को आदेश दे सकते हैं और कंप्यूटर उसी के अनुरूप परिणाम हमें आउटपुट डिवाइस मे देता है। 

Graphic Tablet क्या है
Graphic Tablet क्या है

इसी प्रकार से कंप्यूटर की एक इनपुट डिवाइस है जिसका नाम है ग्राफिक टेबलेट। शायद आपने यह नाम कभी जरूर सुना होगा क्योंकि इसका उपयोग महत्वपूर्ण कामों के लिए किया जाता है। अगर आप Graphic Tablet के बारे में संपूर्ण जानकारी प्राप्त करना चाहते है तो, इस आर्टिकल को अंत तक जरूर पढ़ें …

 

Graphic Tablet क्या है? (What is Graphic Tablet in Hindi) –

Graphic Tablet जिसे की Drawing Tablet या Pen Tablet के नाम से भी जाना जाता है। यह एक विशेष प्रकार का इनपुट डिवाइस है जिसका उपयोग कंप्यूटर या लैपटॉप के साथ किया जाता है।

ग्राफिक टेबलेट Pad की तरह होता है और इसके साथ एक डिवाइस से होता है जो Pen की तरह होता है इस डिवाइस को Stylus कहते हैं । उपयोगकर्ता Stylus का उपयोग पेन, पेंसिल या पेंटब्रश के रूप में कर सकता है।

Stylus की सहायता से टेबलेट पर ड्राइंग कर सकते हैं कुछ लिख सकते हैं। ग्राफिक टेबलेट का उपयोग ड्राइंग के साथ साथ user के सिग्नेचर को कैप्चर करने के लिए भी किया जाता है।

जिस प्रकार आप  पेन या पेंसिल की मदद से पेपर पर लिख सकते हैं उसी प्रकार Stylus की मदद से टेबलेट पर लिखा जा सकता है। 

 

Graphic Tablet के प्रकार (Types of Graphic Tablet in Hindi) –

ग्राफिक टेबलेट के प्रकार निम्नलिखित है जो इस प्रकार है –

Active Graphic Tablet –

Active Tablets में जो Stylus उपयोग होता है उसमें self powered electronic होते हैं जो टेबलेट को signal जेनरेट और ट्रांसमिट करते हैं। यह Stylus अपनी शक्ति के लिए टेबलेट के बजाय एक आंतरिक बैटरी पर निर्भर करते हैं। टेबलेट पर सिग्नल को लगातार सुन सकते हैं क्योंकि उन्हें ट्रांसमीटर और रिसीवर मोड के बीच alternative करने की आवश्यकता नहीं होती है।

Passive Graphic Tablet –

Passive Tablets विशेष रूप से wacom द्वारा बनाया गया electromagnetic induction technology का उपयोग करते हैं जहां टेबलेट के horizontal और vertical वायर ट्रांसमिशन को प्राप्त करने वाले coil दोनों रूप में काम करते हैं। टेबलेट एक electromagnetic signal जनरेट करता है जो Stylus में LC सर्किट द्वारा प्राप्त किया जाता है।

Optical Graphic Tablet –

Optical Tablets Stylus में एक बहुत छोटे digital cameras द्वारा संचालित होती है और फिर पेपर की इमेज पर पैटर्न मिलान करते हैं ऑप्टिकल टेबलेट्स का सबसे अच्छा उदाहरण है Anoto कंपनी द्वारा विकसित तकनीक है।

Capacitive Graphic Tablet –

Capacitive Tablets एक Stylus या मानव द्वारा electrostatic या Capacitive signal का पता लगाकर काम करते हैं। Capacitive टच स्क्रीन का उपयोग अक्सर स्मार्टफोन और टेबलेट कंप्यूटर में किया जाता है।

Acoustic Graphic Tablet –

Acoustic Tablet ग्राफिक टेबलेट के शुरुआती मॉडल है। Stylus में एक छोटा साउंड जनरेटर लगा होता है। ग्राफिक टेबलेट डिजिटल आर्टवर्क को आसानी से और अधिक accurate बनाने के लिए डिजाइन किया गया है।

 

Graphic Tablet कैसे काम करता है? –

ग्राफिक टेबलेट को एक USB Port के द्वारा कंप्यूटर से कनेक्ट किया जाता है। जब यूजर टेबलेट में कुछ ड्रा करता है तो ड्राइंग टेबलेट में दिखाई नहीं देता बल्कि यह एक सिग्नल पैदा करती है जो टेबलेट पर जो टेबलेट पर चलने वाले तारों के वर्टिकल ग्रिड पर जाती है।

टचस्क्रीन टेबलेट में यूजर जब ड्राइंग करता है तो वह सीधा मॉनिटर में दिखाई देता है। पेन या Stylus बैटरी से चलने वाला भी हो सकता है या इसमें कोई कार्ड भी लगा हो सकता है।

जब यूजर Stylus की मदद से कोई रेखा खींचता है तो coil सर्किट सिग्नल को Stylus के अंदर मेन सर्किट में ट्रांसफर करता है। यह लाइन और लंबाई को मापता है और दबाव संवेदनशील संधारित्र दबाव को मापता है।

टेबलेट में एक सेंसर बोर्ड लगा होता है जो Stylus के द्वारा उत्पन्न डाटा सिग्नल को टेबलेट में लगे तारों के ग्रिड के द्वारा पता करता है। टेबलेट एक विद्युत चुंबकीय सिग्नल उत्पन्न करता है जो कि Stylus में एक सर्किट के द्वारा प्राप्त होता है। Stylus एक एंटीना के रूप में काम करता है जो कि सिग्नल प्राप्त करता है और अन्य विद्युत चुंबकीय क्षेत्र पैदा करता है जो कि टेबलेट से कनेक्ट होता है।

इन विद्युत चुंबकीय संकेतों का इस्तेमाल करके टेबलेट लाइनों को कंप्यूटर स्क्रीन पर ट्रांसफर करता है।

 

Graphic Tablet के उपयोग (Uses of Graphic Tablet in Hindi) –

  • ग्राफिक टेबलेट का इस्तेमाल कलाकार पेंटिंग बनाने के लिए करते है।
  • शिक्षा के क्षेत्र में ग्राफिक टेबलेट का इस्तेमाल शिक्षक ऑनलाइन टीचिंग के लिए करते है।
  • चित्रकार, फोटोग्राफर, ग्राफ़िक डिज़ाइनर के लिए ग्राफिक टेबलेट बहुत ही उपयोगी होता है।
  • आर्किटेक्ट और इंजीनियर बिल्डिंग का मैप तैयार करने के लिए ग्राफिक टेबलेट का इस्तेमाल करते है।
  • ग्राफिक टेबलेट का उपयोग अन्य क्षेत्रों जैसे कार्टून, फैशन डिजाइनिंग आदि में किया जाता है। 

 

Graphic Tablet का इतिहास (History of Graphic Tablet in Hindi) –

पहला ड्रॉइंग टेबलेट 1888 मे Elisha Gray के द्वारा बनाया गया था। इसे Telautograph कहा जाता था। यह पहला हाथ से लिखने वाला उपकरण था। धीरे-धीरे ग्राफिक टेबलेट में सुधार होते गए और आज के समय में बहुत ही एडवांस ग्राफिक टेबलेट बनते है।

ग्राफिक टेबलेट में हुए सुधार –

  • 1888 – Telautograph 
  • 1957 – Stylator
  • 1964 – The Rand
  • 1979 – Apple Graphic Tablet
  • 1979 – Utopia Graphic Tablet
  • 1998 – Wacom Intuos
  • 2005 – Wacom Cintiq
  • 2015 – Apple IPad Pro

 

Graphic Tablet के फायदे (Advantages of Graphic Tablet in Hindi) –

  • एक ग्राफिक टेबलेट एक mouse की तुलना में छोटे, जटिल आकार को अधिक आसानी से बनाता है।
  • ग्राफिक टेबलेट की मदद से आप अपने नोट्स को डिजिटल फॉर्मेट में सुरक्षित रख सकते है।
  • सटीकता का एक बड़ा स्तर हासिल किया जा सकता है, ग्राफिक टेबलेट कार्यबल और उत्पादकता बढ़ा सकता है।
  • ग्राफिक टेबलेट पर्यावरण के अनुकूल होते हैं, यह हमें पेपर का उपयोग कम से कम करने की अनुमति देते है।
  • ग्राफिक टेबलेट दबाव को deduct करके उसी के अनुरूप काम करते हैं। Stylus से अधिक दबाव डालने पर रेखा गहरी बनती है और कम दबाव डालने पर रेखा हल्की बनती है। 

 

Graphic Tablet के नुकसान (Disadvantages of Graphic Tablet in Hindi) –

  • ग्राफिक टेबलेट सामान्य उपयोग के लिए उपयुक्त नहीं होते है।
  • ग्राफिक टेबलेट माउस की तुलना में बहुत अधिक महंगे होते है।
  • ग्राफिक टेबलेट कुछ चुने हुए software में ही चलते है।
  • ग्राफिक टेबलेट में कंप्यूटर में मुख्य कार्य जैसे कि क्लिक करना, कंप्यूटर में कोई आइकन सिलेक्ट करना आसानी से नहीं किया जा सकते जीतने आसानी से mouse से किए जा सकते है।
  • ग्राफिक टेबलेट चलाने के लिए आपके पास drawing skill होना जरूरी है। 

 

 

निष्कर्ष (Conclusion) –

आज के इस लेख के जरिए हमने Graphic Tablet क्या है से जुड़ी जानकारी आपके साथ साझा की जिसे पढ़ने के बाद आपको ग्राफिक टेबलेट के बारे में पता चल गया होगा। यह एक विशेष प्रकार का इनपुट डिवाइस है जिसका उपयोग कंप्यूटर या लैपटॉप के साथ किया जाता है।

उम्मीद करते है कि आपको Graphic Tablet क्या है? लेख जरूर पसंद आया होगा। अगर यह लेख आपको पसंद आया है तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करें और दूसरों तक ज्ञान को बांटे।  धन्यवाद !

 

About Team Rivn Tech

दोस्तों हम Rivn Tech Editor Team है , हमारा हर प्रयास यही रहेगा कि आपको Computer, Mobile, Latest Technology and Tips & Tricks के बारे में नवीनतम जानकारी प्रदान की जाए और नए-नए तरीकों के बारे में आपको बताया जाएगा, आपकी समस्याओं का समाधान किया जाएगा

2 thoughts on “Graphic Tablet क्या है – Graphic Tablet के प्रकार, उपयोग | Graphic Tablet in Hindi”

Leave a Comment