HTTP क्या है? What is HTTP in Hindi

4.5/5 - (8 votes)

http kya hota hai, Http in hindi, http क्या है?, http की विशेषताए और http के कंपोनेंट्स कौन से हैं

हेल्लो दोस्तों इस आर्टिकल में आप HTTP क्या है? के बारे में जानेगे। http क्या है?, http की विशेषताए और http के कंपोनेंट्स कौन से हैं आदि के बारे में जानेगे। वर्तमान समय में Technology इतनी अधिक आगे होती जा रही  है, कि आज के समय कोई भी काम कठिन नहीं लगता है

HTTP भी एक टेक्नोलॉजी होती है, जिसका इस्तेमाल अधिकतर Browsers करते आ रहें है क्योंकि ब्रोसेर्स HTTP ही लेते हैं, क्योंकि यह बेहद आसान होता है और इसमें  केवल Domain name fill करना होता है। इसके बाद Browser खुद ही http:// को Autofill कर देता है।

यह एक ऐसी टेक्नोलॉजी है, जिसका इस्तेमाल मुख्य रूप से web server और web users के बीच बेहतर Communication के लिए किया जाता है। इसलिए यदि आपको एचटीटीपी (HTTP) के विषय में अधिक जानकारी चाहते है, तो HTTP क्या है? इस आर्टिकल को पूरा पढ़े.

HTTP क्या है? What is HTTP in Hindi
HTTP क्या है? What is HTTP in Hindi

HTTP क्या है? (what is Http in Hindi) –

HTTP क्या है? – HTTP का पूरा नाम “HyperText Transfer Protocol” है। जिसका कार्य वेब और सर्वर के बीच कम्युनिकेशन करने के लिए होता है इंटरनेट का कोई भी डाटा सर्वर से हमारे ब्राउज़र HTTP के द्वारा हमारे कंप्यूटर तक पहुचता है यह एक एप्लीकेशन प्रोटोकोल होता है। जो प्रोटोकॉल का कितना होता है उतारती है एक प्रकार का नेटवर्क प्रोटोकोल होता है जिसका मतलब नियमों के समय से है जिनका उपयोग वर्ल्ड वाइड वेब में ब्राउज़र और सरवर के बीच सूचनाओं के आदान-प्रदान मैं होता है।

जब भी आप कोई युवा रे टाइप करते हैं तो आपको उसके आगे एचटीटीपी लिखना होता है जो ब्राउज़र को FTP पर कम्युनिकेट करने को कहता है। आज के ब्राउजर में हमको अपने युवा रेल के सामने एचटीटीपी लिखने की आवश्यकता नहीं होती है, क्योंकि ब्राउज़र डिफ़ॉल्ट रूप से एचईटीपी का उपयोग करता है जिसमें अधिकांश जेल ब्राउज़र द्वारा ही एचटीटीपी ले लिया जाता है। केवल हमको यूआरएल लिखना पड़ता है। और ब्राउज़र द्वारा उसके सामने  Automatically  Http :// आ जाता है। 

जैसे आपकी अपनी साईट जिसमें आप यह पोस्ट पढ़ रहे हैं इसका यूआरएल जब आप टाइप करते है। तो आप http://Rivntech.com लिखते है और एंट्री करते हैं और कुछ ही सेकंड में आपके सामने सामने साईट की जानकारी प्रदर्शित होती है एचटीटीपी अपना कार्य सेकेंड से भी कम समय में पूरा कर लेता है से हमें कुछ पता ही नहीं चलता है

यह एक्सटेंडेड इंटरनेट प्रोटोकॉल है यह वेब ब्राउज़र जैसे माइक्रोसॉफ्ट इंटरनेट एक्सप्लोरर पोर्न वेब सर्वर जैसे माइक्रोसॉफ्ट इंटरनेट इंफॉर्मेशन सर्विसस(IIS) के बीच क्लाइंट/सर्वर इंटरनेशन प्रोसेस को स्पेसीफ़ाय  करता है HTTP का मतलब HyperText Transfer Protocol है जिसका आविष्कार Tim Berners-Lee और उसकी टीम ने 1989 से 1991 के बीच किया था

HTTPअपनी जानकारी को स्थानांतरित करने के लिए पोर्ट 443 का उपयोग करता है। HTTP का उपयोग पहली बार http/ 1.1 में किया गया है और इसे RFC 2616 में परिभाषित किया गया है।

 

HTTP की विशेषताएं (Features of HTTP) :-

HTTP की तीन बेसिक विशेषताएं है जो HTTP को एक सरल और शक्तिशाली प्रोटोकॉल बनाती है:-

HTTP कनेक्शन रहित है (HTTP is conectionless) – 

HTTP क्लाइंट अर्थात ब्राउज़र HTTP रिक्वेस्ट शुरू करता है और एक रिक्वेस्ट हो जाने के बाद, क्लाइंट प्रोसेस का इंतजार करता है सर्वर रिक्वेस्ट को प्रोसेस करता है।सर्वर रिक्वेस्ट को प्रोसेस करता है और एक प्रतिक्रिया भेजता है। जिसके बाद क्लाइंट कनेक्शन को डिस्कनेक्ट करता है इसलिए क्लाइंट और सर्वर वर्तमान रिक्वेस्ट और प्रतिक्रिया के दौरान एक दूसरे के बारे में जानते हैं नए कनेक्शन पर आगे रिक्वेस्ट किए जाते हैं जैसे क्लाइंट और सर्वर दूसरे के लिए नए है।

HTTP स्वतंत्र मीडिया है (HTTP is media independent) –

इसका मतलब है किसी भी प्रकार का डाटा HTTP द्वारा भेजा जा सकता है जब तक की क्लाइंट और सर्वर दोनों को पता है कि डाटा कंटेंट को कैसे संभालाना है। क्लाइंट के साथ-साथ उपयुक्त MIME का उपयोग करके कंटेंट प्रकार निर्दिष्ट करने के लिए सर्वर की आवश्यकता होती है।

HTTP स्टेटलेस है (HTTP is Stateless) –

जैसा कि ऊपर बताया गया है HTTP कनेक्शन रहित है इसी तरह HTTP का एक स्टैटलेस प्रोटोकोल है। सर्वर और क्लाइंट केवल एक वर्तमान रिक्वेस्ट के दौरान एक दूसरे के बारे में जानते हैं। बाद में दोनों एक दूसरे के बारे में भूल जाते हैं। प्रोटोकॉल की इस प्रकृति के कारण, न तो क्लाइंट और न ही ब्राउज़र वेब पेजों पर विभिन्न रिक्वेस्ट के बीच जानकारी बनाए रख सकते हैं।

 

HTTP का इतिहास (History of HTTP in hindi) –

टिम बर्नर्स ली और उनकी टीम ने CERN में HTTP आविष्कार किया था। HTTP मे  समय समय पर होने वाले विकाश के फलस्वरूप नए नए version बनते गए जो की निम्नलिखित है:-

HTTP 0.9 –   यह HTTP का पहला version था जिसे 1991 में पेश किया गया था।

HTTP  1.0 –  1996 में, RFC  (Request For Comments) 1945 को HTTP 1.0 पेश किया गया।

HTTP 1.1 –  जनवरी 1997 में, RFC 2068 को HTTP 1.1 में पेश किया गया।

HTTP 2.0 –  HTTP 2.0, 14 मई 2015 को RFC 7540 के रूप में प्रकाशित हुआ।

HTTP 3.0 –  HTTP 3.0 पिछले RFC ड्राफ्ट पर आधारित है। इसका नाम बदलकर HTTP QUIC कर दिया गया है जो कि Google द्वारा विकसित एक ट्रांसपोर्ट लेयर नेटवर्क प्रोटोकॉल है।

 

HTTP से जुड़े कुछ common error codes है –

  • 400 Bad File Request:- यह error code तब दिखाई देता है जब हमारा URL गलत हो जैसे की small की जगह capital letter use करना, चिन्हों को type करने में गलती करना आदि।
  • 401 Unauthorized:- गलत password enter करने की वजह से यह एरर आ सकता है।
  • 403 Forbidden/Access Denied:- जब आप किसी ऐसे page को open कर रहें हों जिसकी permission आपको नही है तो ऐसी स्थिति में यह response code दिखाई दे सकता है।
  • 404 File Not Found:-  यह सबसे common error है। जब आप किसी ऐसे file या document के लिए request कर रहें हो जो कि server पर उपलब्ध नही है, या तो delete कर दिया गया है या किसी दुसरे location पर move कर दिया गया है तब ऐसी स्थिति में 404 error आता है।
  • 408 Request Timeout:- यह error ज्यादातर उस समय occur होता है जब server का speed slow हो या request किये गये file की size ज्यादा हो।
  • 500 Internal Error:- जब server के configuration में कुछ problem हो तब file को access करने में परेशानी होती है और internal error का status code दिखाई देता है।
  • 503 Service Unavailable:- Internet connection में problem हो, server busy हो, या site किसी अन्य address पर move हो गया हो तब इस प्रकार का error आ सकता है।

 

HTTP के कंपोनेंट्स कौन से है? –

HTTP एक क्लाइंट-सर्वर प्रोटोकॉल है। अनुरोध एक इकाई, यूजर-एजेंट (या उसकी ओर से एक प्रॉक्सी) द्वारा भेजे जाते है। अधिकांश समय यूजर-एजेंट एक वेब ब्राउज़र है, लेकिन यह कुछ भी हो सकता है, उदाहरण के लिए एक रोबोट जो वेब को क्रॉल करता है और सर्च इंजन इंडेक्स को बनाए रखता है।

प्रत्येक व्यक्तिगत अनुरोध एक सर्वर को भेजा जाता है, जो इसे संभालता है और एक जवाब प्रदान करता है, जिसे प्रतिक्रिया कहा जाता है। क्लाइंट और सर्वर के बीच कई इकाइयां हैं, जिन्हें सामूहिक रूप से प्रॉक्सी कहा जाता है, जो विभिन्न संचालन करते है और उदाहरण के लिए gateways या caches के रूप में कार्य करते है।

वास्तव में, अनुरोध को संभालने वाले एक ब्राउज़र और सर्वर के बीच अधिक कंप्यूटर हैं: राउटर, मोडेम और बहुत कुछ है। वेब के लेयर्ड डिजाइन के लिए , ये नेटवर्क और परिवहन लेयर्स में छिपे हुए हैं। एप्‍लीकेशन लेयर पर HTTP टॉप पर है। यद्यपि नेटवर्क समस्याओं का निदान करने के लिए महत्वपूर्ण है, अंतर्निहित लेयर्स HTTP के वर्णन के लिए ज्यादातर अप्रासंगिक है।

Client: the user-agent –

यूजर-एजेंट कोई भी टूल है जो यूजर की ओर से कार्य करता है। यह भूमिका मुख्य रूप से वेब ब्राउज़र द्वारा की जाती है; अन्य संभावनाएँ प्रोग्राम हैं जिनका उपयोग इंजीनियरों और वेब डेवलपर्स द्वारा उनके एप्‍लीकेशन को डिबग करने के लिए किया जाता है।

ब्राउज़र हमेशा रिक्‍वेस्‍ट आरंभ करने वाली इकाई है। यह कभी भी सर्वर नहीं है (हालांकि सर्वर द्वारा शुरू किए गए मैसेज को अनुकरण करने के लिए कुछ तंत्र वर्षों से जोड़े गए हैं)।

वेब पेज प्रस्तुत करने के लिए, ब्राउज़र HTML डॉक्यूमेंट को लाने के लिए एक मूल अनुरोध भेजता है जो पेज का प्रतिनिधित्व करता है। यह तब इस फ़ाइल को विश्लेषण करता है, निष्पादन स्क्रिप्ट, लेआउट जानकारी (CSS) को प्रदर्शित करने के लिए अतिरिक्त अनुरोध करता है।

पेज के भीतर निहित उप-संसाधन (आमतौर पर चित्र और वीडियो)। तब वेब ब्राउज़र उपयोगकर्ता को एक संपूर्ण डॉक्यूमेंट, वेब पेज पर प्रस्तुत करने के लिए इन संसाधनों को मिलाता है। ब्राउज़र द्वारा निष्पादित स्क्रिप्ट बाद के चरणों में अधिक संसाधन प्राप्त कर सकते हैं और ब्राउज़र तदनुसार वेब पेज को अपडेट करता है।

एक वेब पेज एक हाइपरटेक्स्ट डॉक्यूमेंट है। इसका मतलब है कि प्रदर्शित टेक्‍स्‍ट के कुछ हिस्से लिंक हैं, जो एक नए वेब पेज को लाने के लिए (आमतौर पर माउस के एक क्लिक से) एक्टिवेट किया जा सकता है, जिससे यूजर्स अपने यूजर-एजेंट को निर्देशित कर सकता है और वेब के माध्यम से नेविगेट कर सकता है। ब्राउज़र HTTP अनुरोधों में इन निर्देशों का अनुवाद करता है, और उपयोगकर्ता को स्पष्ट प्रतिक्रिया के साथ प्रस्तुत करने के लिए HTTP प्रतिक्रियाओं की आगे व्याख्या करता है।

The Web server –

कम्युनिकेशन चैनल के विपरीत साइड में, सर्वर है, जो क्‍लाइंट द्वारा अनुरोध के अनुसार डॉक्यूमेंट प्रदान करता है। एक सर्वर वस्तुतः केवल एक मशीन के रूप में प्रकट होता है: इसका कारण यह है कि यह वास्तव में सर्वरों का एक संग्रह हो सकता है, लोड को शेयर करना (लोड बैलेंसिंग) या अन्य कंप्यूटर (जैसे कैश, एक डीबी सर्वर, या ई-कॉमर्स सर्वर) से पूछताछ करने वाले सॉफ़्टवेयर का एक जटिल टुकड़ा है, मांग पर डॉक्यूमेंट को पूरी तरह या आंशिक रूप से उत्पन्न करना।

एक सर्वर जरूरी नहीं कि एक ही मशीन हो, लेकिन एक ही मशीन पर कई सर्वर सॉफ़्टवेयर इंस्टेंस होस्ट किए जा सकते हैं। HTTP / 1.1 और होस्ट हेडर के साथ, वे समान IP Address भी शेयर कर सकते हैं।

Proxies –

वेब ब्राउज़र और सर्वर के बीच, कई कंप्यूटर और मशीनें HTTP मैसेज को रिले करती हैं। वेब स्टैक की लेयर्ड संरचना के कारण, इनमें से अधिकांश ट्रांसपोर्ट, नेटवर्क या फिजिकल लेयर पर काम करते हैं, HTTP लेयर पर पारदर्शी होते हैं और संभवतः प्रदर्शन पर एक महत्वपूर्ण प्रभाव डालते हैं।

एप्‍लीकेशन लेयर पर काम करने वालों को आम तौर पर proxies कहा जाता है। ये पारदर्शी हो सकते हैं, उन अनुरोधों पर अग्रेषित करना जो उन्हें किसी भी तरह से बदलने के बिना प्राप्त होते हैं, या गैर-पारदर्शी, जिस स्थिति में वे सर्वर के साथ इसे पारित करने से पहले किसी तरह से अनुरोध को बदल देंगे। प्रॉक्सी कई कार्य कर सकते हैं:

  • Caching – (कैश सार्वजनिक या निजी हो सकता है, जैसे ब्राउज़र कैश)
  • Filtering – (एक एंटीवायरस स्कैन या अभिभावक नियंत्रण की तरह)
  • Load Balancing – (कई सर्वरों को विभिन्न अनुरोधों को पूरा करने की अनुमति देने के लिए)
  • Authentication – (विभिन्न संसाधनों तक पहुंच को नियंत्रित करने के लिए)
  • Logging – (ऐतिहासिक इनफॉर्मेशन के स्‍टोरेज की अनुमति)

 

क्या HTTP को हैक किया जा सकता है?

जब आप किसी HTTP वेबसाइट का उपयोग करके लॉगिन करते हैं, तो हैकर आपका लॉगिन और पासवर्ड देख सकता है। यह जानते हुए कि 52% लोग अपने पासवर्ड का पुन: उपयोग करते हैं, इसका मतलब है कि हैकर के पास न केवल उस छोटी फोरम साइट तक पहुंच है जो HTTP का उपयोग करती है बल्कि आपका ईमेल, सोशल मीडिया या यहां तक कि बैंक अकाउंट भी है।

निष्कर्ष (Conclusion) :-

दोस्तों आज के इस आर्टिल्स में हमने HTTP क्या है? के बारे में बताया है. आज internet की दुनिया में http कितना उपयोगी है और साथ ही जाना है कि HTTP क्या है? HTTP की विशेषताएं और HTTP के कंपोनेंट्स  के बारे में तो दोस्तों आशा करता हूँ कि आपको ये आर्टिकल पसंद आया होगा। मुझे उम्मीद है कि आपको यहां से HTTP क्या है? के बारे में पूरी जानकारी मिली होगी।

अगर आपको HTTP क्या है? से रिलेटेड कोई भी सवाल पूछना है तो हमें कमेंट करके पूछ सकते है।

About Team Rivn Tech

दोस्तों हम Rivn Tech Editor Team है , हमारा हर प्रयास यही रहेगा कि आपको Computer, Mobile, Latest Technology and Tips & Tricks के बारे में नवीनतम जानकारी प्रदान की जाए और नए-नए तरीकों के बारे में आपको बताया जाएगा, आपकी समस्याओं का समाधान किया जाएगा

1 thought on “HTTP क्या है? What is HTTP in Hindi”

Leave a Comment