Debugging क्या है? – डिबगिंग के स्टेप्स, डिबगिंग के टूल | Debugging in Hindi

4.7/5 - (8 votes)

Debugging क्या है? – डिबगिंग नाम कंप्युटर साइंस का काफी अहम हिस्सा है जिसके बारे मे प्रोग्रामिंग मे सिखने वाले व्यक्ति को पता होना चाहिए क्योंकि इसी के आधार पर वह सॉफ्टवेयर मे आने वाले Errors और Bugs को ढूंढ कर के उन्हे Fix कर सकता है।

Debugging क्या है?
Debugging क्या है?

प्रोग्रामिंग सिख रहे लोग जब डिबगिंग शब्द को सुनते है तब उन्हे लगता है की Debugging कोई ऐसा Tool या Function है जिसकी मदद से हम अपने सॉफ्टवेयर मे होने वाले Errors और Bugs को ढूंढ सकते है लेकिन ऐसा बिल्कुल नहीं है। आज हम Debugging क्या है? के बारे में विस्तार से बात करने वाले है इसलिए इस आर्टिकल को अंत तक जरुर पढ़े ….

 

Debugging क्या है? (Debugging in Hindi) –

डिबगिंग एक प्रक्रिया है जिसके द्वारा software के code में से errors और bugs को detect और correct किया जाता है अर्थात् डिबगिंग कुछ और नहीं बल्कि बग्स या त्रुटि खोजने की एक प्रक्रिया है। Debugging एक प्रक्रिया या तकनीक है जिसके द्वारा program में से bugs और errors को खोजा जाता है उसके बाद उन्हें analyze करके fix किया जाता है।

डिबगिंग की प्रक्रिया में बहुत सारें steps होते है जिनमे सबसे पहले bug को identify किया जाता है, उसके बाद bug के source को find किया जाता है और उसके बाद bug को fix करके program को error मुक्त बनाया जाता है। डिबगिंग को करने के लिए debugger tools का प्रयोग किया जाता है और debugger tools को debugger कहा जाता है।

डिबगिंग सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट का एक प्रोसेस है जिसकी सहायता से प्रोग्राम मे मौजूद Errors और Bugs को ढूंढा जाता है और उन Errors और Bugs के कारणों को ढूंढकर उन्हे Fix कर दिया जाता है इसलिए डिबगिंग कोई Function या Tool न होकर एक प्रोसेस या प्रक्रिया है।

 

डिबगिंग के स्टेप्स (Steps of Debugging in hindi) –

डिबगिंग की प्रक्रिया में अलग-अलग steps होते हैं, जो कि निम्न हैं –

Error को खोजना और identify करना – 

सबसे पहले error को identify किया जाता है। ज्यादातर user के द्वारा रिपोर्ट किए गए error को interpret करना मुश्किल होता है, इसलिए वास्तविक error की पहचान करना बहुत जरुरी होता है।

Error की location को ट्रैक करना –

Error की पहचान करने के बाद error की location का पता लगाना होता है। जब प्रोग्राम के Error को ढूंढ लिया जाता है तो उसके बाद उस Error के Exact Location का पता किया जाता है, की प्रोग्राम के किस Location मे यह Error मौजूद है एवं इसमे Error के Source का पता किया जाता है।

Error को analyze करना –

इसमें Error के कारण का पता लगाया जाता है की वह Error किस गलती की वजह से आया है। इसमें bottom up approach का प्रयोग error को analyze करने के लिए किया जाता है।

Analysis को prove करना –

इसमें Error को Fix करने की योजना बनाया जाता है की आखिर प्रोग्राम मे मौजूद Error को कैसे Fix किया जा सकता है। जब bug को analyze कर लेते है तो applications में मौजूद अन्य errors को भी find करना होता है।  

बाद में होने वाली problem से बचना –

इसमें code के लिए सभी unit tests को इक्कठा करना होता है और उसके बाद इन unit test को run करना होता है। इन सभी unit test में कोई समस्या नहीं होनी चाहिए जिससे कि भविष्य में कोई problem ना हो। इसे इस प्रकार समझ सकते है की Error को Fix करने के बाद प्रोग्राम मे कौन-कौनसी समस्याए आ सकती है और उन समस्याओ को किस तरह हल किया जा सकता है यह पहले निर्धारित करना होता है।

Error को Fix करना –

अंत में सभी errors को fix करना होता है और fix करके इन्हें validate करना होता है।

 

Debugging क्यों किया जाता है? –

जब एक डेवलपर या Programmer कोई नया प्रोग्राम बनाने के लिए Codes लिखता है तो उसमे काफी सारे अलग-अलग Concepts होते है। जब Programmer प्रोग्राम लिख रहा होता है तब वह Codes लिखने मे कुछ गलती कर देता है जो उस समय समझ मे नहीं आता है।

वह गलती आगे चलकर प्रोग्राम को सही तरह से कार्य करने मे रुकावट डालती है तो ऐसे मे उस गलती को सुधारने के लिए डिबगिंग का उपयोग किया जाता है।

 

डिबगिंग के टूल (Debugging Tools in Hindi) –

Debugging Tool एक computer program होता है जिसका प्रयोग दूसरे programs को debug और test करने के लिए किया जाता है इसलिए Debugging tools को debugger भी कहते है। 

कुछ पॉपुलर debuggers निम्नलिखित है –

  • Chrome DevTools
  • ReSharper
  • Memfault
  • Radare2
  • WinDbg
  • Valgrind
  • Microsoft visual studio debugger
  • Firefox JavaScript debugger
  • Eclipse debugger
  • Arm DTT (Allinea DDT)
  • GDB
  • LLDB
  • WDW

 

Debug से क्या तात्पर्य है? (Debug Meaning in Hindi)-

सॉफ्टवेयर में बग्स या त्रुटि खोजने की प्रक्रिया Debugging है जिसमे Bug को Debug किया जाता है। इस प्रक्रिया का उपयोग सॉफ्टवेयर टेस्टर्स बग्स खोजने और उन्हें निकालने के लिए करते है। यह तभी उपयोग में आता है जब किसी सॉफ्टवेयर को चलने में परेशानी हो रही हो।

 

इन्हें भी पढ़े –

 

https://youtu.be/3bY9jw3ZYN4

 

निष्कर्ष (Conclusion) –

आज हमने Debugging क्या है? के बारे में जाना है। डिबगिंग शब्द प्रोग्रामिंग के क्षेत्र मे उपयोग किया जाता है और जिसके जरिए प्रोग्राम को बनाने के बाद आई हुए समस्त समस्याओ को हल किया जाता है। हमने आपको Debugging क्या है? के बारे में विस्तार से बताया है जिसमे Debugging क्या है?, डिबगिंग के स्टेप्स, Debugging क्यों किया जाता है?, डिबगिंग के टूल, Debug से क्या तात्पर्य है? आदि के बारे में बताया है।

मुझे उम्मीद है आपको Debugging क्या है?आर्टिकल पसंद आया होगा और कुछ नया सीखने या जानने को मिला होगा। अगर आपको यह आर्टिकल ज्ञानवर्धक लगा हो तो इसे अपने दोस्तों और अन्य लोगो के साथ share करें ताकि लोगो को भी इसके बारे में जानकारी प्राप्त हो सके। धन्यवाद !

 

FAQ – Debugging in Hindi

 

Q.1 डिबगिंग कौन सी प्रक्रिया है?

Ans. डिबगिंग प्रोग्राम कोड से बग्स नामक त्रुटियों का पता लगाने और उन्हें हटाने की प्रक्रिया है।

Q.2 Debugger किसे कहते है?

Ans. Debugging tools को debugger कहते है।

Q.1 कंप्यूटर में डिबगिंग क्या है?

Ans. डिबगिंग बग्स को खोजने और उन्हें निकालने की एक प्रक्रिया है। जब किसी software या application का निर्माण किया जाता है तो उस software या application को कई स्टेप्स से होकर गुजरना पड़ता है जिसमे Software का Testing, Troubleshooting और Maintenance आदि किया जाता है।

About Team Rivn Tech

दोस्तों हम Rivn Tech Editor Team है , हमारा हर प्रयास यही रहेगा कि आपको Computer, Mobile, Latest Technology and Tips & Tricks के बारे में नवीनतम जानकारी प्रदान की जाए और नए-नए तरीकों के बारे में आपको बताया जाएगा, आपकी समस्याओं का समाधान किया जाएगा

Leave a Comment